mera desh

Rang-birange phoolon ka ek guldasta

49 Posts

180 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8696 postid : 728132

सार्थकता

  • SocialTwist Tell-a-Friend

खबर है–
शाहरुख खान ने दो सौ करोड़ का‚
घर बनवाया।
पैसा है तो ऐसे शौक‚
पूरे किए जा सकते हैं‚
पर ध्यान रहे–
घर चाहे कितना आलीशान‚
बनवा लिया जाए‚
बिस्तर चाहे कितना‚
गद्देदार‚आरामदेह हो‚
तिजोरी और बैंक खाता में‚
चाहे कितना धन हो‚
ना चाहते हुए भी‚
एक दिन छोड़कर‚
जाना ही पड़ता है।
फिर दो सौ करोड़ का‚
घर बनवाना बेहतर है‚
या‚
गरीब बेघरों को घर देना‚
गद्दे पर सोना बेहतर है ‚
या‚
दूसरों को बिस्तर देना‚
धन को ताले में बंद रखना‚
बेहतर है या‚
जरूरतमंदों की मदद करना‚
कहते हैं कि‚
जानवर सिर्फ अपने बारे में‚
सोचते हैं‚
लेकिन इनसान‚
सबके बारे में सोचता है।
गोस्वामी तुलसी दास ने कहा है–
परहित सरिस धरम नहीं भाई
अर्थात्–
दूसरों के साथ भलाई से बड़ा‚
कोई धर्म नहीं।
वैसे मेरा मानना है कि‚
मनुष्य के जीवन की सार्थकता‚
दूसरों के काम आने में है।
जो दूसरों के काम नहीं आता‚
वह उस सूखे पेड़ की तरह है‚
जिससे न फल मिलता है‚
और न छाया‚
और जिसके होने या न होने का‚
कोई अर्थ नहीं होता।



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
April 12, 2014

मनुष्य के जीवन की सार्थकता‚ दूसरों के काम आने में है। जो दूसरों के काम नहीं आता‚ वह उस सूखे पेड़ की तरह है‚ जिससे न फल मिलता है‚ और न छाया‚ और जिसके होने या न होने का‚ कोई अर्थ नहीं होता।बहुत अच्छे विचार और बहुत अच्छी रचना.आपको बहुत बहुत बधाई.


topic of the week



latest from jagran